Prof. Arun Tiwari

80 Posts
Co-author of 'Wings of Fire' Arun Tiwari, former missile scientist and pupil of Dr. APJ Abdul Kalam.

1 दुनिया है फानी

Prof. Arun Tiwari
बचपन में मुझे एक बार सिनेमा की फिल्म की रील का कुछ एक मीटर लम्बा टुकड़ा मिला। इसमें दसियों फ्रेम ऐसे थे जो लगभग एक जैसे थे। जब मैंने अपने पिताजी से पूछा कि इसमें इतने सारे समान चित्र क्यों हैं, तो उन्होंने उनमें से...

युवाओं के लिए 11 संदेश

Prof. Arun Tiwari
युवाओं को संदेश देने वाला मैं कौन होता हूं? एक वाहक, शायद – मुझे जो दिया गया है उसे वितरित करने वाला डाकिया! या शायद, रिले रेस का धावक पिछले साथी से मिले हुए ‘बैटन’ को अपनी रेस के बाद अगले साथी को पास करता...

God Within सब में राम समाया

Prof. Arun Tiwari
Belief in God is natural to human nature. But there are multiple ways in which God has been described and finding God has never been easy. लोग प्रार्थना करते हैं, पूजा स्थलों पर जाते हैं, तीर्थ यात्राएं करते हैं, अनुष्ठान करते हैं, और ध्यान करते...

Purpose of Life जीवन जीने का नाम

Prof. Arun Tiwari
ब्रह्माण्ड में मानव जीवन अद्वितीय है और अभी तक किसी अन्य प्राणी में कल्पना शक्ति होने का कोई प्रमाण नहीं है। केवल  इंसान ही अंदर से नैतिकता की भावना, और बाहर की घटनाओं को देखने और उसके बारे में सोचने की क्षमता से संपन्न है।...

Sensory Attractions सावधानी हटी, दुर्घटना घटी

Prof. Arun Tiwari
Human life is unique due to the endowment of the mind with the faculty of imagination and language that no other creature has in the entire known universe. मन से जुड़ी पांचों इंद्रियां दोनों तरह से काम करती हैं – बाहरी दुनिया से संकेतों को...

Appreciate Good गुण के ग्राहक

Prof. Arun Tiwari
गुणवान होना महत्वपूर्ण है, लेकिन उतना ही जरूरी एक पारिस्थितिकी तंत्र का होना है जहां गुणवत्ता की कद्र हो। आज दुनिया की शीर्ष प्रौद्योगिकी कंपनियों के सी.ई.ओ. भारतीय मूल के व्यक्ति हैं। वे भारत में पैदा हुए, भारत में पढ़े, और फिर नौकरी के लिए...

All the World’s a Stage जीवन एक तमाशा

Prof. Arun Tiwari
जीवन सीमित है। यह एक ऐसा तथ्य है जिसे हर कोई जानता है और फिर भी यह मानकर व्यहार करता है जैसे कि वह हमेशा के लिए जीने वाला है। All around, one can see children being born, growing up, becoming teenagers, adults and then...