Image default

अतीत के झरोखों से

————————————

आज हम बात करेंगे उस विषय पर जिसको लेकर हम सबलोग बड़े आतुर रहते हैं और वह है अपने अतीत को जानना. यह सच है कि हम सबलोग अतीत से जुड़े हुए हैं क्योंकि अतीत ही वह नींव है जिसके ऊपर हमारा वर्तमान टिका है और आने वाला कल भी उसी आधार पर अपना भविष्य तैयार करेगा.

अब सवाल यह उठता है कि जब हम अतीत की बात करते हैं तो हम क्या जानना चाहते हैं?

नंबर 1. हम जानना चाहते हैं कि हमारे पूर्वज, हमारे बड़े-बुजुर्ग के संस्कार क्या थे, उनकी ह्यूमन वैल्यूज क्या थीं और उनके अपने सिद्धांत क्या थे?

नंबर 2. हम जानना चाहते हैं कि उन्होंने अपना जीवनयापन किस प्रकार से किया, कितनी ईमानदारी से किया और किस प्रकार से उन्होंने अपने भविष्य को सुधारने की कोशिश की? ताकि आने वाली संतानें उनकी उस संपत्ति का पूरा लाभ उठा सकें.

नंबर 3. उन्होंने किस तरीके से अपने अध्ययन को जारी रखा और पढ़ाई करते हुए किस प्रकार अपनी जीवन शैली को बनाया और अपनी आधारभूत सुविधाओं के लिए किस प्रकार से मेहनत की और कुशलतापूर्वक, सफलतापूर्वक अपना जीवन निर्वाह किया?

नंबर 4. हम जानना चाहते हैं कि समाज में उनकी क्या इज्जत थी और कैसा स्थान था? लोग परिवार को किस नजरिए से देखते थे और कितना उन्हें सम्मान प्राप्त होता था? किस प्रकार से उनसे लोग जुड़ना चाहते थे?

नंबर 5. हम जानना चाहते हैं कि उन्होंने समाज में किस तरह से अपना योगदान दिया? उस समय के लोगों की किस प्रकार से उन्होंने सहायता की, अपने आसपास का वातावरण उन्होंने कैसा स्थापित किया जिससे लोग उनकी प्रशंसा करते रहे और उनके बताए हुए मार्ग का हम कैसे अनुसरण करें?

नंबर 6. हम जानना चाहते हैं कि उन्होंने हमलोगों के भविष्य के लिए कौन सी योजनाएं, कौन सी गाइडलाइन, कौन से ऐसे सिद्धांत बनाए जिनका भविष्य में लोग अनुसरण कर सकें और परंपराओं को बनाए रख सकें.

नंबर 7. हम यह जानना चाहते हैं कि कौन सी ऐसी गलतियां हमारे पूर्वजों से हुईं जिनका भुगतान हम कर रहे हैं और शायद आगे भी करते रहेंगे?

नंबर 8. हम जानना चाहते हैं कि पूर्वजों के संबंध में वे कौन-कौन सी बातें हैं जो हमें याद रखनी चाहिए, जो हमारी धरोहर के रूप में हमेशा हमें प्रोत्साहित करती रहेंगी.

इन बातों को जब हम जानना चाहते हैं तो हमारा मकसद क्या है, हम क्या समझना चाहते हैं?

हमारा मक़सद ये सब जानने का यह है कि हम अपने आपको अपने अतीत और पूर्वजों से जोड़े रखें और उत्साहित रहें और अपनी आने वाली पीढ़ी को, आने वाले कल को भी प्रोत्साहित करें और बताएं कि देखो हमारे अतीत में हमारे पूर्वजों का जो योगदान था, जो संस्कार उन्होंने हमको दिए थे, उसके बलबूते पर हम आगे बढ़े, उनसे जुड़े रहे और अपने आपको गौरवान्वित महसूस करते रहे.

इसी प्रेरणा को लेकर हम सब अपने पूर्वजों को याद करें और उनके बताए हुए रास्ते को अपना कर ऐसा साबित करने का प्रयत्न करें कि हमारा परिवार एक संपन्न और सम्मानपूर्वक जीवन व्यतीत करने के लिए सक्षम है.

धन्यवाद.