मनोरंजन

मिल जा कहीं समय से परे

Dr. Dushyant
सलमान खान की एक अचर्चित सी फिल्‍म ‘वीर’ में गुलजार साहब के लिखे गीत ‘सुरीली अखियों वाले’ की यह पंक्ति सालों से मेरे जेहन में अटकी हुई है। पर क्‍या ये मुमकिन है? क्‍या यह महज एक दार्शनिक खयाल है? हमारी देखी, सुनी, पहचानी व्‍यवहारिक...

चार नेशनल अवॉर्ड विनर बंगाली फ़िल्म ‘जातीश्वर’ का हिंदी रीमेक ‘है ये वो आतिश गालिब’ | Bangla Movie in Hindi as Hai Ye Vo Aatish Ghalib

Dr. Dushyant
रोज़गार की भाषा के सुनामी में डूबती भावनाओं की भाषाएं श्रीजित मुखर्जी के निर्देशन में बनी बंगाली फ़िल्म ‘जातीश्वर‘ का रीमेक हिंदी में ‘है ये वो आतिश गालिब’ नाम से बनने जा रहा है, चार नेशनल अवॉर्ड विनर ‘जातीश्वर‘  मेरी प्रिय बांग्ला फिल्मों में से...

SonyLiv पर रिलीज हुई हिंदी फिल्म ‘वैलकम होम’ का रिव्यु | SonyLiv Welcome Home film review in Hindi

Dr. Dushyant
बेड़ियों से मुक्ति ही घर वापसी है SonyLiv पर हाल ही रिलीज हुई हिंदी फिल्म ‘वैलकम होम‘ (Welcome Home) पर इसी नाम की 2018 की विदेशी फ़िल्म का कोई असर नहीं है, जबकि इस फिल्‍म में तो सदियों का शोषक भारतीय पुरुष और शोषित स्‍त्री...

मैडम चीफ़ मिनिस्टर फ़िल्म का रिव्यु | Madam Chief Minister film review in Hindi

Era Tak
खोल पंख अब मार उडारी ‘मैं बचपन से जिद्दी हूँ, अक्खड़ हूँ’— जब तारा ये बात बोलती है तो दिल को छूती है. ये सच है कि जो औरतें जिद्दी होती हैं, वही दुनिया में अपनी जगह बना पाती हैं. जो स्त्रियाँ अपना हक मांगती...

खोए हुए जूते और तेज़ दौड़ने की ज़ि‍द में लड़खड़ाया बच्‍चा

Dr. Dushyant
हाल ही आई हंसल मेहता की वेबसिरीज ‘स्कैम’ को देखना आधुनिक भारत के आर्थिक इतिहास का एक अध्याय पढ़ लेना है। ‘स्‍कैम’ अर्जित करने और परिग्रह की लालसा का महाकाव्‍य है, हो सकता है, जीवन में परिग्रह और अपरिग्रह की उलटबांसी को कथार्सिस के रूप...

अमेजोन प्राइम पर आई फिल्‍म ‘ए कॉल टू स्‍पाय’ का रिव्यु | A Call to Spy review in Hindi

Dr. Dushyant
टीपू सुल्‍तान की सातवीं पीढ़ी दूसरे विश्‍वयुद्ध में अंग्रेजों की जासूस थी! हाल ही अमेजोन प्राइम पर आई फिल्‍म ‘ए कॉल टू स्‍पाय’ दूसरे विश्‍वयुद्ध की सत्‍य घटनाओं पर आधारित है, इसमें भारतीय अभिनेत्री राधिका आप्‍टे भी ब्रिटेन में पहली मुस्लिम जासूस नूर इनायत खान...

डिग्रियों के गुलाम, कैसे करें जिंदगी को सलाम

Dr. Dushyant
भारत गुरुओं और गुरुघंटालों का देश है। गुरुओं को शिक्षक दिवस के सिवा अब कौन याद करता है भला ! हम अमेजोन पर हाल ही आई हंसल मेहता की फिल्‍म ‘छलांग’ के कारण उनकी बात कर रहे हैं … हमारा देश विश्‍वगुरु था या नहीं,...

बंदूक चलेगी तो अपना निशाना भी ढूंढ़ ही लेगी

Dr. Dushyant
आगामी 30 नवंबर को एक विलक्षण घटना घटने जा रही है, शायद यह पहली बार हो रहा है कि भारत के किसी लेखक को ज्ञानपीठ मिला हो और उसके बाद उसकी अगली किताब इतने उत्सवपूर्ण ढंग से प्रकाशक रिलीज करे… मैं अमिताभ घोष के नए...

महके प्रीत पिया की, मेरे अनुरागी मन में

Dr. Dushyant
नेटफ्लिक्‍स पर हाल ही रिलीज वेबसिरीज ‘अ सूटेबल ब्‍वाय’ विक्रम सेठ के उपन्‍यास का रूपांतरण है। कहा जा रहा है कि बीबीसी द्वारा बनाई गई सबसे महंगी सिरीजों में से एक है…   प्रसिद्ध हिंदी लेखिका मन्‍नू भंडारी की एक कहानी है ‘यही सच है’,...

हींग कचौरी की खुशबू

Dr. Dushyant
सत्‍यजीत रे की विश्‍वचर्चित फिल्‍म ‘पोथेर पांचाली’ सहित उनकी पूरी ‘अप्‍पू ट्रिलॉजी’ और शक्ति सामंत की राजेश खन्‍ना, शर्मिला टैगोर अभिनीत फिल्‍म ‘अमर प्रेम’ जिस लेखक की क‍हानियों पर आधारित थीं, उस लेखक विभूति भूषण बंद्योपाध्‍याय (1894-1950 ) की आज सत्‍तरवीं पुण्‍यतिथि है, यह इसलिए...