Image default

विश्व पृथ्वी दिवस 2023 : इसी पृथ्वी को खोखला कर मना रहे हैं अर्थ डे

कल (22 अप्रैल 2023) जब मैंने गूगल खोला तो मैं डूडल देखकर उलझन में थी । मैंने जानवरों को पेड़ों का पोषण करते और प्राकृतिक चीजों की मरम्मत करने की कोशिश करते हुए देखा। जब मैंने डूडल पर टैप किया तो मुझे यह जानकर आश्चर्य हुआ कि कल पृथ्वी दिवस था। मैं न केवल आश्चर्यचकित थी बल्कि ईमानदारी से कहूं तो मैं काफी शर्मिंदा भी थी कि मैं सलमान खान की नई रिलीज़ के बारे में ज्यादा जानती हूँ जो अर्थ डे या पृथ्वी दिवस जितना महत्वपूर्ण नहीं था।

यह डूडल, मेरी राय में मानवता पर एक तमाचा है और एक वेक अप कॉल भी है। यह सचमुच बताता है कि मानवता कितनी असक्षम हो चुकी है भले ही हम तकनीकी रूप से कितना भी उन्नत होने का दावा करें। यह दिखाता है कि अगर जानवर वास्तव में कर पाते तो वह शायद हम मनुष्यों की तुलना में इस ग्रह की देखभाल बेहतर करते।

आज गूगल सिर्फ मेरा सर्च  इंजन नहीं था बल्कि मेरा मार्गदर्शक निकला जिसने  मुझे बहुत गहराई से सोचने पर मजबूर कर दिया। आइए हमारे ग्रह की स्थिति को समझें। संयुक्त राष्ट्र की हालिया रिपोर्टों के अनुसार जलवायु परिवर्तन अपेक्षा से अधिक गति से हो रहा है। दुनिया भर में गर्मी की लहरें कई मौतों का कारण बनी हैं। महासागरों और अन्य जल निकायों की गहराई में बड़े बदलाव हुए हैं। अपनी चोटियों के लिए प्रसिद्ध पहाड़ कम होते जा रहे हैं और अगर ऐसा ही चलता रहा तो ‘पर्वत शिखर’ वाक्यांश का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा।

2015-2022 के बीच तापमान हाल में सबसे गर्म वर्षों के रूप में दर्ज किया गया था। हम पहले से ही जानते थे कि हमारा ग्रह संकट का सामना कर रहा है जब ग्लेशियरों ने पिघलना शुरू कर दिया और ग्लोबल वार्मिंग के कारण जल स्तर बढ़ने लगा। ग्लेशियरों का पिघलना और जल स्तर में वृद्धि जारी रही है और 2022 में सबसे अधिक दर्ज की गई थी और बुरी खबर यह है कि संख्या में गिरावट नहीं दिखती है और आंकड़ों के अनुसार कुछ हजार वर्षों तक चलेगी।

जलवायु परिवर्तन का प्रभाव पिछले वर्ष काफी स्पष्ट था और 2023 में भी तबाही मचाना जारी है। दुनिया भर में गंभीर सूखे, बाढ़ और गर्मी की लहरों से पृथ्वी दिवस मनाने में बहुत कम सकारात्मकता है। हम मनुष्यों ने अपनी मातृ प्रकृति को विफल कर दिया है और उसे हल्के में लिया है।

यह दुखद है कि हमारे उपलब्ध संसाधनों और प्रौद्योगिकी के बावजूद हम अपने स्वार्थी और गुप्त उद्देश्यों के कारण हमारे ग्रह को हुए नुकसान को उलटने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए बहुत कुछ नहीं कर रहे हैं। आज हमें एक जाति के रूप में विचार करना चाहिए। यह समझना चाहिए कि हमें इस जगह को हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए रहने लायक बनाने के लिए एक इकाई के रूप में काम करन पड़ेगा। केवल उनके लिए संपत्ति और धन रखने से उनके लिए एक खुशहाल भविष्य सुनिश्चित नहीं होगा।

निराशा के काले बादलों के बीच अभी भी धूप की एक किरण है क्योंकि कई लोग सरंक्षण को कूल (फैशन में) बनाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि यह पृथ्वी पर हर पीढ़ी को आकर्षित कर सके। गूगल ने कुछ टिकाऊ खोजों को साझा किया जिसे अपनाने से हम दुनिया में अपना थोड़ा सा योगदान दे सकते हैं और ‘बूंद बूंद से घड़ा भरे’ की कहावत पर खरा उतर सकते हैं।

  1. ट्रेनों और बसों जैसे सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने से हम यातायात और पार्किंग से परेशान होने की जगह उस समय को आराम करने, पढ़ने या दिन के लिए अपने काम की समीक्षा करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं ।
  2. छोटी और लंबी दूरी के लिए ट्रेनों के माध्यम से यात्रा करने से उत्सर्जन को 87% तक कम करने में मदद मिलती है।
  3. बिजली का उपयोग करने की जगह ऊर्जा प्राप्त करने के लिए सोलर पैनलों का उपयोग ग्रह पर होने वाले बोझ को कम करने का एक शानदार तरीका है। प्राकृतिक ऊर्जा के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए, सोलर पैनलों की दरें 80% तक कम हो गई हैं और उनके उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए छूट भी उपलब्ध है।
  4. इलेक्ट्रिक वाहन ट्रेंड कर रहे हैं और यह हमारे प्यारे ग्रह के लिए एक अच्छी खबर है। एक कार के जीवन की तुलना में, एक इलेक्ट्रिक वाहन ईंधन आधारित संस्करणों की तुलना में 20% सस्ता माना जाता है। परिवहन के कारण पृथ्वी पर प्रदूषण के प्रमुख योगदानकर्ता वाहन हैं। गैस संचालित वाहन कुल प्रदूषण के 1/5 वें हिस्से में योगदान करते हैं और इस प्रकार इलेक्ट्रिक वाहनों का चयन करने से प्रदूषण में काफी कमी आ सकती है।
  5. एक समय था जब फैशनेबल कपड़े खरीदना एक ट्रेंड बन गया था। क्रेज ऐसा था कि लोग इसके दीवाने हो गए थे और जो लोग शॉपिंग के बहुत शौकीन थे उन्हें ‘शॉपहोलिक’ कहा जाता था। शुक्र है कि बढ़ती जागरूकता के साथ लोगों को एहसास हुआ है कि कपड़े खरीदना सिर्फ फैशन से अधिक एक आवश्यकता है। कई जमाखोरों ने अपने कपड़े बेचना शुरू कर दिया और कई ऐसे थे जिन्होंने खुशी से इन पूर्व-पसंदीदा कपड़ों को खरीदा और इस प्रकार टिकाऊ फैशन के लिए मार्ग प्रशस्त किया। कपड़े पृथ्वी पर 20% पानी की बर्बादी के लिए जिम्मेदार हैं और वैश्विक उत्सर्जन के 8% के लिए भी जिम्मेदार हैं। पूर्व पहने हुए कपड़े पहनने से भूमि अपशिष्ट को कम करने, पैसे बचाने में मदद मिलती है और फिर भी आपके फैशन गेम को उछाल का मौका मिलता है।
  6. पिछले 5 वर्षों में खाद्य अपशिष्ट को कम करने के तरीकों की खोज दोगुनी हो गई है, यह दर्शाता है कि लोग संरक्षण पर अधिक जागरूक हो गए हैं। लोग अपने भोजन की योजना बनाकर, घर पर उपलब्ध सामग्री के साथ खाना पकाकर और बची हुई सामग्री का उपयोग करके भोजन की बर्बादी से बच सकते हैं।कई लोगों को यह जानकर आश्चर्य होगा कि खाद्य अपशिष्ट वैश्विक उत्सर्जन का 8-10% हिस्सा है। अपशिष्ट भोजन सबसे आम लैंडफिल अपशिष्ट है और मीथेन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है जो कार्बन डाई ऑक्साइड की तुलना में बहुत अधिक गर्मी जमा करता है। कॉमपोस्टिंग न केवल अपव्यय को रोकने में मदद करता है, बल्कि अपने घर पर फर्टिलिजेर का उत्पादन करने का एक शानदार तरीका है जिससे कचरा सोने में बदल जाता है।
  7. लोगों ने रीसाइक्लिंग विधियों की खोज की है जो फिर से एक संकेत है कि वे स्थिरता के बारे में गंभीर हैं और उसी के लिए तरीके खोजने की कोशिश कर रहे हैं। ई-कचरे का हिस्सा 50 मिलियन टन है और इसके पुनर्चक्रण से संख्या कम हो सकती है। इसके अलावा ई-कचरे में घातक तत्व जैसे कैडमियम, सीसा आदि जल निकायों और खाद्य आपूर्ति श्रृंखलाओं के लिए बहुत खतरनाक हो सकते हैं।

तो चलिए गूगल के इन सुझावों को अपनाने की कोशिश करें ताकि अगले अर्थ डे पर स्तिथि थोड़ी बेहतर हो और  हम पर्यावरण के मोल  को बेहतर समझें।

आप इसे भी पढ़ना पसंद करेंगे

मिल जा कहीं समय से परे

Dr. Dushyant

स्टाइल और ट्रेडिशन की जुगलबंदी : इंडो-वेस्टर्न साड़ी ऑन दिवाली

Era Tak

साइंस का नोबेल मिलता है, धर्म ठुकरा देता है

Dr. Dushyant

कौन था ‘पश्चिम का शंकराचार्य’ ?

Dr. Dushyant

सूर्य आवेशित पानी ( sun charged water ): कैसे बनाएं , लाभ और तथ्य , कितना सच ? एक पड़ताल

Kanupriya Gupta

टिम कुक ने भारत के पहले एप्पल स्टोर का किया उद्घाटन

Girija Jodha